सहरसा टाईम्स - Saharsa Times

रोटी बैंक के द्वारा बचाई जा रही है गरीब मजलुओं की जिंदगियां…

चिकित्सकों के सहयोग से निः शुल्क जाँच कर  दी जा रही  चिकित्सा…..

बेसहारा व गरीब जरूरतमंदों को मिल रहा है स्वास्थ्य लाभ….

रोटी बैंक अभियान  में युवा बढ़ा रहे आगे अपना कदम….

कृष्ण मोहन सोनी कि रिपोर्ट —- गरीब, असहायों और बेवस बंचित लाचारों के लिए एक तरफ जहां सरकार कई तरह की जन कल्याणकारी योजनाएं चला रखी है, वाबजूद योजनाओं का सही सही लाभ ऐसे जरूरतमंदों तक नहीं पहुंच पा रही है जबकि सरकार इस दिशा में गंभीर भी है. आज हमारे देश में एक जबरदस्त बदलाव आया है कभी हमारे पूर्वजों द्धारा बनाई गयी सामाजिक व्यवस्था भाईचारे के साथ साथ एक दूसरे के दुःख का साथी बनना पसंद करते थे तभी तो आज हमारा देश अन्य देशों से भिन्न है. लेकिन कुछ ऐसे स्वार्थी संवेदनहीन लोगों के कारण ही हमारी ऐसी सोच और व्यवस्था को रख पाने में आज की पीढ़ी असमर्थ हो गए है. निश्चित तोर पर हमारी संस्कृति सामाजिक व्यवस्था में भटकाव आया है.

आज इसी करी को आगे बढ़ाते हुए सहरसा के कुछ युवा पीढ़ी ने मिशाल कायम किया है. लोकहित कार्य के साथ साथ लोगों में संवेदनशील होने की अलख जगाने के लिए सहरसा में रोटी बैंक का गठन किया गया. इस रोटी बैंक के अथक प्रयास से रोटी बैंक के हर सदस्य अपने अपने घरों व आस पास के घरो से रोटी सब्जी का पैकेट लाकर चिन्हित जगहों पर जाकर इसे गरीबों में बाँटते है. जिले के कई हिस्सों में सड़कों पर असहाय गरीबों को रोटी बैंक के कार्यकर्ता द्धारा रोटी खिला जिन्दगिया बचाई जा रही है.

रोटी बैंक के सदस्यों के इस अभियान से हर मानव समाज के लोगों को भी प्रेरणा व सहयोग कर खत्म हो रही इंसानिय को ज़िंदा रखने की भी कोशिश की जा रही है. रोटी बैंक के सदस्यों के द्धारा जिले के विभिन्न हिस्सों में भूख से निजात देने के साथ साथ नि:शुल्क चिकित्सा जाँच भी की जा रही है. जिससे कई बीमारियों से ग्रसित लोगों को स्वास्थ्य लाभ भी दिया जा रहा है. इस काम में चिकित्स्क भी योगदान दे रहे है. इस अभियान में मुख्य रूप से डा० रविन्द्र

Exit mobile version